घटना का संक्षिप्त विवरण – दिनांक 01/07/2022 की रात्रि में कस्बा सिमरिया में एक किराना दुकानदार की दुकान के ऊपर लगे टीनसैड को अज्ञात चोर द्वारा चोरी कर लिया गया था । फरियादी की रिपोर्ट पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध थाना सिमरिया में चोरी का अप.क्र. 281/22 कायम किया जाकर विवेचना में लिया गया था ।
पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही – कुछ समय पूर्व पन्ना पुलिस अधीक्षक श्री धर्मराज मीना द्वारा समस्त थाना प्रभारियों को अपने-अपने थाना क्षेत्रों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने एवं अपराधों की रोकथाम करने हेतु आदेशित किया गया था । पुलिस अधीक्षक पन्ना द्वारा दिये गये आदेश का पालन करते हुये थाना प्रभारी सिमरिया निरीक्षक सुशील कुमार अहिरवार के द्वारा 2 माह पहले जनसहयोग से कस्बा सिमरिया में सी.सी.टी.व्ही. कैमरे लगवाए गये थे । चोरी की घटना के संबंध में थाना प्रभारी सिमरिया द्वारा पुलिस अधीक्षक पन्ना को जानकारी दी गई । पुलिस अधीक्षक पन्ना द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पन्ना श्रीमती आरती सिंह , अनुविभागीय अधिकारी पुलिस पवई श्री सौरभ रत्नाकर के मार्गदर्शन एवं थाना प्रभारी सिमरिया निरीक्षक सुशील कुमार के नेतृत्व में एक पुलिस टीम गठित की गई । पुलिस अधीक्षक पन्ना द्वारा उक्त पुलिस टीम को थाना क्षेत्र में जनसहयोग से लगवाये गये सी.सी.टी.व्ही. कैमरो को चेक करवाने हेतु निर्देशित किया गया । पुलिस अधीक्षक पन्ना द्वारा दिये गये निर्देशों का पालन करते हुये पुलिस टीम द्वारा सी.सी.टी.व्ही. कैमरो को खंगाला गया जिसका सकारात्मक परिणाम पुलिस टीम को देखने को मिला फुटेज के आधार पर कस्बा सिमरिया का रहने वाला एक संदेही व्यक्ति टीनशेड चोरी करते हुए दिखाई दिया उक्त संदेही व्यक्ति से पुलिस टीम द्वारा पूँछताछ किये जाने पर उक्त व्यक्ति द्वारा जुर्म स्वीकार किया गया । जुर्म स्वीकार किये जाने पर पुलिस टीम द्वारा आरोपी को पुलिस अभिरक्षा में लिया जाकर चोरी गये मशरूका को आरोपी के कब्जे से जप्त किया जाकर पुलिस टीम द्वारा आरोपी ने पूँछताछ पर विगत 1 वर्ष पूर्व ग्राम हरदुआ खमरिया क्षेत्र में हुई चोरी की वारदातो को भी कबूल किया गया है एवं उक्त दोनों चोरियों में गया सामान पुलिस को बरामद कराया गया है । पुलिस टीम द्वारा आरोपी को गिरफ्तार कर जेल दाखिल किया गया है ।
महत्वपूर्ण भूमिका- उक्त संपूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी सिमरिया निरीक्षक सुशील कुमार , सहायक उपनिरीक्षक राम मोहन सिंह, सहायक उपनिरीक्षक जसवंत सिंह, प्रधान आरक्षक अशोक विश्वकर्मा, आरक्षक श्याम सिंह, आरक्षक भगवत, आरक्षक गजेंद्र एवं प्रदीप का सराहनीय योगदान रहा है ।